//वॉशिंगटन पोस्ट के पत्रकार खशोगी की हत्या में सऊदी के पूर्व राजनयिक का हाथ: रिपोर्ट

वॉशिंगटन पोस्ट के पत्रकार खशोगी की हत्या में सऊदी के पूर्व राजनयिक का हाथ: रिपोर्ट

वॉशिंगटन पोस्ट के लापता पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या में सऊदी के पूर्व राजनायिक माहेर अब्दुलअजीज मुतरेब की अहम भूमिका थी। अमेरिकी चैनल सीएनएन ने सूत्रों के हवाले से यह दावा किया है। रिपोर्ट के मुताबिक, सऊदी में जांच अधिकारी रह चुके मुतरेब को साजिश की पूरी जानकारी थी। वे क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के करीबी बताए जाते हैं। अमेरिकी अधिकारियों का कहना है ये मुमकिन नहीं कि सलमान का करीबी कोई अधिकारी बिना उनकी जानकारी के विदेश के किसी ऑपरेशन में शामिल हो।

2 अक्टूबर से लापता हैं खशोगी
खशोगी तुर्की में रहने वाली अपनी मंगेतर हेटिस सेंगीज से शादी करना चाहते थे। इसकी अनुमति के लिए दस्तावेज लेने वह 2 अक्टूबर को इस्तांबुल स्थित सऊदी अरब के दूतावास गए थे लेकिन वहां से वापस नहीं लौटे। जांचकर्ताओं ने इस सिलसिले में बुधवार और गुरुवार को करीब 9 घंटे तक इस्तांबुल के सऊदी राजदूत के घर और दूतावास की जांच की।

सऊदी अरब के नागरिक रहे खशोगी वॉशिंगटन पोस्ट के लिए लिखते थे। उनके सऊदी के शाही परिवार से अच्छे रिश्ते थे लेकिन बीते कुछ महीनों से वह प्रिंस सलमान के खिलाफ लिख रहे थे। 1980 के दशक में खशोगी ने ओसामा बिन लादेन का इंटरव्यू भी लिया था।

तुर्की के सबाह अखबार ने गुरुवार को खशोगी के लापता होने से पहले की सिक्योरिटी कैमरा फुटेज की 4 तस्वीरें छापीं। इनमें इस्तांबुल स्थित सऊदी दूतावास से लेकर सऊदी राजदूत के घर तक की फोटो हैं।

फोटोज में खशोगी की हत्या से जुड़े 15 लोगों और मुतरेब के मूवमेंट्स को दर्शाया गया है। अखबार को यह फोटो तुर्की सुरक्षा विभाग में अपने सूत्रों के जरिए मिलीं।

सिक्युरिटी कैमरा की 4 फोटो में क्या?
पहली फोटो: 2 अक्टूबर को सुबह 9:55 बजे मुतरेब को सऊदी काउंसलेट पहुंचते देखा जा सकता है। उसी दिन सऊदी से इस्तांबुल पहुंचे दूसरे लोग भी उसके पीछे दिखाई देते हैं। 2 तारीख को ही खशोगी सऊदी काउंसलेट से लापता हुए थे।